About Me

My photo
An Indian Army Officer retired

Thursday, July 21, 2011

उसकी आँखों में रास्ते में गुम हो गये......


उनकी आँखों में  रास्ते  गुम हो गये
या उनका रास्ता गुम हो गया मेरी आँखों में 
ये आजतक पता नहीं...
अलबत्ता गुमशुदाओं में उनका नाम लिखा पाती हूँ,
उनके दिल की वही जाने,
मैं तो अपनी आंखों में उन्हें, तस्वीर की तरह बसाये, 
सपनों में बस, यूं ही ढूंढने निकल जाती हूँ ..... 
हवाओं की तरह....आवारा...बेसुध .....

2 comments:

  1. Besudh yun hi doondhne nikal jaati hun

    ReplyDelete