About Me

My photo
An Indian Army Officer retired

Friday, August 19, 2011

रेत की डगर


पगली सी,
अपने चेहरे पर खींची लकीरों को, हवाओं से संवारती है,
चूमती है पवन को और,
लहर लहर बलखाती है,
ये रेत की डगर है, 
मेरे गांव से तेरे शहर तक,
बार बार जाती है 
मिट जाती है...

3 comments:

  1. Jaisalmer ki ek shaam tere naam....

    ReplyDelete
  2. शुक्रिया अनजान हमसफ़र.....

    ReplyDelete